Kisse Kahani

story time

पाकिस्तान के पंजाब में मौजूद गुरुद्वारा तिब्बा ये वो जगह है जहां गुरु नानक देव जी, बाबा फरीद रहमतुल्लाह एलैह के मुरीद शेख इब्राहिम से मिले थे। यही क़रीब में उनके वंशज बाबा फ़तेह उल्लाह शाह नूरी चिश्ती का मकबरा भी है।

शुरुआती वक़्त में सिक्खों और मुस्लिमों में गहरा ताल्लुक़ था क्योंकि दोनों धर्म एक ईश्वर की आराधना में विश्वास रखते है। बाबा फरीद, गुरुनानक देव जी के आध्यात्मिक गुरु थे पूरे हिन्दोस्तान से लेकर अफ़ग़ानिस्तान तक बाबा फरीद बड़े सूफ़ी थे उनके लिखे हुए नज़्म को इकट्ठा करने के लिए गुरु नानक देव जी अपने मुस्लिम दोस्त भाई मरदान के साथ शेख इब्राहिम से मिलने पहुचे थे।

गुरुनानक देव जी ने बाबा फरीद के अल्फ़ाज़ को सिक्खो के पवित्र ग्रन्थ गुरु ग्रन्थ साहिब में बाबा फरीद वाणी के नाम से शामिल किया है। कभी ये जगह गुलज़ार हुआ करती थी लेकिन बंटवारे के बाद जैसे हरियाणा और पंजाब में मस्ज़िदे और मक़बरे वीरान और खंडहर हो चुके है उसी तरह वहां ये गुरुद्वारा भी खस्ताहाल है।

#mughal_saltanat

Leave a Reply